दीदीजी फाउंडेशन की संस्थापक को सामाजिक क्षेत्र मे उल्लेखनीय योगदान के लिए किया गया सम्मानित।

0
597

बिहार/पटना। राजकीय-राष्ट्रीय सम्मान से अंलकृत दीदीजी फाउंडेशन की संस्थापक और समाजसेवी डा. नम्रता आनंद को सामाजिक क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिये नन्ही परी सोशल वेल्फेयर फाउंडेशन ने सम्मानित किया। सामाजिक संगठन नन्ही परी सोशल वेल्फेयर फाउंडेशन का सम्मान समारोह राजधानी पटना के हिंदी साहित्य सम्मेलन में आयोजित किया गया। इस अवसर अलग-अलग क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली विभूतियों को सम्मानित किया गया। डा. नम्रता आनंद को सामाजिक क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिये नन्ही परी सोशल वेल्फेयर फाउंडेशन की एमडी रेणु कुमारी , बिहार छत्रिय एकता समिति के अध्यक्ष राणा सिंह
ने मोमेंटो और शॉल देकर सम्मानित किया। डा. नम्रता आनंद ने इस सम्मान के लिये नन्ही परी सोशल वेल्फेयर फाउंडेशन की एमडी रेणु कुमारी का शुक्रिया अदा किया है। समाजसेवी डा. नम्रता आनंद ने कहा कि जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाया जाना बेहद जरूरी है। हमारा कर्तव्य बनता है कि सच्चे दिल से समाज की सेवा करें।सच्चे हृदय से की गयी समाज सेवा ही इस देश एवं इस पूरे संसार का कल्याण कर सकती है। हमारी कोशिश रहती है कि लोगों के बीच अधिक से अधिक मदद पहुंचायी जा सके। समाज सेवा का जज्बा यदि इंसान के अंदर हो तब वह किसी भी मुश्किल का सामना कर सेवा कर ही लेता है। हम तन-मन धन सभी तरह से समाज की सेवा कर सकते है। उल्लेखनीय है कि डा. नम्रता आनंद को केन्द्रीय चयन समिति ने वर्ष 2004 में राष्ट्रीय विकास और सामाजिक सेवा में किये गये उत्कृष्ठ कार्य के लिये राष्ट्रीय यूथ अवार्ड सम्मान से सम्मानित किया। वर्ष 2019 में उन्हें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार की सर्वश्रेष्ठ 20 शिक्षकों में सम्मानित किया। वर्ष 2020 में नम्रता आनंद ने कुरथौल के फुलझड़ी गार्डेन में संस्कारशाला की स्थापना की। संस्कारशाला के माध्यम से गरीब और स्लम एरिया के बच्चों का नि.शुल्क शिक्षा, संगीत, सिलाई-बुनाई और डांस का प्रशिक्षण दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here