यज्ञ की परिक्रमा करने से दैहिक दैविक और भौतिक तीनो पाप होते है समाप्त:- श्री श्री 108 श्री जितेंद्र दास जी महाराज उर्फ नागा बाबा

0
512

मझौलिया से राजू शर्मा की रिपोर्ट…

बेतिया/मझौलिया। मझौलिया प्रखंड अंतर्गत सेंनवरिया पंचायत के रामजानकी मठ वृत्ति टोला में आयोजित श्री लक्ष्मी नारायण यज्ञ एवं श्री राम दरबार शिव प्राण प्रतिष्ठा महायज्ञ में अयोध्याधाम से आए यज्ञाधिस श्री श्री 108 श्री संत जितेंद्र दास जी महाराज उर्फ नागा बाबा ने श्रोताओं को यज्ञ के बारे में बताया कि यज्ञ भगवान की परिक्रमा करने से दैहिक दैविक और भौतिक तीनो पाप समाप्त हो जाते है। परिक्रमा करने से शारीरिक कष्ट प्रणाम करने से दैविक प्रकोप तथा प्रसाद पाने भौतिक ही कष्ट कम होता है।अध्यात्म आत्मा को पुष्ट पुष्ट और संतुलित करता है । भगवान के नाम उच्चारण से वाणी, दान से धन, सत्संग से मन का शुद्धिकरण होता है। सत्संग और कथा दशा नहीं दिशा बदलती है । आचार्य रामबाबू पराशर ने कहां की यज्ञ से विश्व का कल्याण होता है सुख समृद्धि शांति सांप्रदायिक सौहार्द आपसी प्रेम बढ़ता है तथा धर्म की विजय होती है उन्होंने बताया कि यह यज्ञ जन सहयोग से जन कल्याण के लिए और शांति के लिए किया जा रहा है जिसमें अध्यक्ष राज किशोर सहनी, उपाध्यक्ष मनोज सिंह, कोषाध्यक्ष निर्भय तिवारी, दिलीप निषाद, जगत नारायण निषाद, चंदन निषाद,मुखिया ज्योति श्रीवास्तव, मुखिया पति रिंकू श्रीवास्तव, प्रमुख पति मंटू कुशवाहा पूर्व मुखिया ताराचंद यादव, समाजसेवी मुकेश सहनी, अर्जुन सहनी, आदि की सराहनीय भूमिका है आचार्य अनुज शास्त्री ने बताया कि 18 मई को इससे महायज्ञ की पूर्णाहुति होगी इस अवसर पर विशाल भंडारा का आयोजन किया जाएगा उन्होंने भक्तों से अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर भंडारा का महाप्रसाद ग्रहण करने की बात कही ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here