शतचंडी महायज्ञ को लेकर जयकारे के साथ निकली भव्य कलश यात्रा।

0
821

मझौलिया से राजू शर्मा की रिपोर्ट…

बेतिया/मझौलिया। नवदिवसीय प्राणप्रतिष्ठत्मक शतचंडी महायज्ञ एवं संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा सप्ताह ज्ञान यज्ञ को लेकर कलश यात्रा निकाली गई। कलश यात्रा में 1001 कुंवारी कन्या एवं महिलाएं शामिल हुई। सुगर इंडस्ट्रीज मझौलिया से निकली कलश यात्रा गुरचुरवा, बैठनिया, होते हुए राजघाट कोहड़ा नदी पहुँचा जहाँ पर यज्ञ कार्यक्रम में वाराणसी से आए वेदाचार्य मधुसूदन उपाध्याय सहित कई महापंडितों व विद्वानों के द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ विधि विधान से पूजा अर्चना कराकर विधिवत पूजा अर्चना के बाद कलश में जलभरी की गई। तदुपरांत भानाचक होते हुए कलश यात्रा यज्ञ स्थल पर पहुंची। जहां परिक्रमा पश्चात कलश स्थापित किया गया। यज्ञ को लेकर क्षेत्र के लोगों में काफी उत्साह का माहौल। शोभा यात्रा के दौरान भक्तों के जयकारे से क्षेत्र गुंजायमान हो उठा। सुगर इंडस्ट्रीज के निदेशक राजेश सारडा ने बताया कि कलश यात्रा व मंडप प्रवेश के साथ नवदिवसीय प्राणप्रतिष्ठत्मक शतचंडी महायज्ञ एवं संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा सप्ताह ज्ञान यज्ञ प्रारंभ हो गया।जिसका प्राणप्रतिष्ठा आगामी 5 मई दिन शुक्रवार तथा पूर्णाहुति एवं महाप्रसाद 6 मई को होगी ।जिसमे शाम को वाराणसी से आए कलाकारों के द्वारा संगीतमय कथा वाचक व मां भगवती का लीला प्रस्तुत किया जाएगा। राजेश सारडा ने कहा कि यज्ञ का आयोजन अपद्रवों के विनाश के लिए, विश्व शांति एवं कल्याण हेतु महाचंडी यज्ञ का विशेष महत्व है। समस्त मानव जाति के कल्याण के लिए ही इस शतचंडी महायज्ञ का अनुष्ठान किया गया है।कलश यात्रा को सफल बनाने में शुगर इंडस्ट्रीज के जीएम केन डॉ. जे पी त्रिपाठी, जीएम इंजीनियरिंग संतोष कुमार, जीएम प्रोडक्शन सर्वेश कुमार दुबे, प्रोडक्शन हेड डिस्टिलरी प्रदीप कुमार शुक्ला, डिप्टी जीएम कमर्शियल यू एन राय, एजीएम आनंद, सीनियर मैनेजर रमाकांत मिश्र, मुख्य रोकड़पाल राजकुमार झुनझुनवाला, एस पी श्रीवास्तव आदि की उल्लेखनीय योगदान रहा।सामुदाययिक स्वास्थ्य केंद्र मंझोलिया के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एम्बुलेंस के साथ तथा इंस्पेक्टर सह थानाध्यक्ष अभय कुमार दलबल के साथ शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here