15 सितंबर से 02 अक्टूबर तक संचालित होगा “स्वच्छता ही सेवा” कार्यक्रम। उप विकास आयुक्त ने विधिवत दीप प्रज्जलित कर किया शुभारंभ।

0
524

बेतिया। जिला प्रशासन एवं जिला जल एवं स्वच्छता समिति के संयुक्त तत्वाधान में आज स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का आयोजन समाहरणालय सभाकक्ष में किया गया। इस कार्यक्रम का उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार द्वारा विधिवत उद्घाटन दीप प्रज्जवलित कर किया गया। ● स्वच्छता ही सेवा, कचरा मुक्त भारत कार्यक्रम लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान फेज-2 अंतर्गत दिनांक-15 सितंबर 2023 से 02 अक्टूबर 2023 तक चलाया जायेगा। इस कार्यक्रम के तहत ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के विभिन्न घटकों के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम, गांव एवं सार्वजनिक स्थलों पर साफ-सफाई, स्वच्छता कर्मियों के लिए हेल्थ चेकअप शिविर, दीवाल लेखन एवं चित्रण, स्वच्छता चौपाल आदि गतिविधियों का संचालन किया जायेगा। समुदाय को अपने गांव को ओडीएफ प्लस मॉडल बनाने के लिए जनभागीदारी, अपशिष्ट प्रबंधन के उपायों को अपनाने एवं उपयोगिता शुल्क संग्रहण के प्रति विशेष रूप से उत्प्रेरित किया जायेगा। ● इस कार्यक्रम के तहत गांव में कूड़ा-कचरा को हटाने, प्लास्टिक अपशिष्ट को साफ करने, नालियों की साफ-सफाई, नदी पोखर, पईन एवं अन्य जलस्रोतों को स्वच्छ बनाने हेतु सफाई अभियान का संचालन किया जायेगा। ज्यादा आवागमन वाले स्थलों यथा-बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, पर्यटन, सांस्कृतिक एवं धार्मिक स्थलों, हाट-बाजारों पर भी साफ-सफाई अभियान का संचालन किया जायेगा। इसके लिए समुदाय को सामूहिक श्रमदान हेतु उत्प्रेरित किया जायेगा। ● प्रखंडस्तर से प्रतिदिन एक गांव में विशेष अभियान का संचालन किया जायेगा। जिसमें खुले में शौच वाले स्थल पर सुबह-शाम निगरानी, छूटे हुए परिवारों को शौचालय की सुलभता, समुदाय को अपशिष्ट प्रबंधन में भागीदारी हेतु उत्प्रेरण गतिविधियां तथा संध्या चौपाल का आयोजन किया जायेगा। ● लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान-द्वितीय चरण अंतर्गत कार्य कर रहे सभी स्वच्छता कर्मियों को केन्द्र एवं राज्य सरकार की स्वास्थ्य, बीमा आदि से संबंधित योजनाओं का लाभ दिलाया जायेगा एवं ग्राम पंचायत/प्रखंडस्तर पर स्वच्छताकर्मियों के लिए स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया जायेगा। ● बच्चे व्यवहार परिवर्तन के प्रमुख संदेशवाहक होते हैं। बच्चों को ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के प्रति जन-जागरूकता की गतिविधियों का हिस्सा बनाया जायेगा। विद्यालयों में स्वच्छता की कक्षा का आयोजन किया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्र के स्कूल/कॉलेज में किशोरी एवं युवतियों को मासिक धर्म प्रबंधन के बारे में जागरूक किया जायेगा। ● स्वच्छता ही सेवा अभियान में जीविका के समुदाय आधारित संगठनों एवं जीविका दीदियों का सहयोग प्राप्त किया जायेगा जीविका समुदाय आधारित संगठनों की बैठक में ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर चर्चा की जायेगी एवं इसे कार्यवाही का हिस्सा बनाया जायेगा। अभियान के सफल संचालन हेतु संबंधित विभाग तथा ग्राम पंचायत स्तर पर मुखिया, वार्ड सदस्य, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, विकास मित्र, रोजगार सेवक, किसान सलाहकार, जीविका दीदी आदि का सहयोग प्राप्त किया जायेगा। इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार ने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है। इसमें सभी को ऊर्जा के साथ तत्परतापूर्वक कार्य करना होगा। स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम से संबंधित जानकारी सभी संबंधित समन्वयकों, कर्मियों को विस्तारपूर्वक दी जाय ताकि उन्हें कन्फ्युजन नहीं हो और वे बेहतर तरीके से कार्य कर सकें। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत बेहतर प्रदर्शन करने वाले ंपंचायतों को चिन्हित करें, जो अपेक्षाकृत कम उपलब्धि वाले पंचायतों के लिए प्रेरणा बनेंगे। उन्होंने कहा इस अभियान की सफलता के लिए पंचायतों को सुविधाएं, संसाधन देनी हैं तथा लोगों का व्यवहार परिवर्तन करना है। पंचायतों में उपलब्ध संसाधनों का समुचित उपयोग करने की आवश्यकता है। उप विकास आयुक्त ने कहा कि यहां के लोग काफी मेहनती होते हैं और वे बेहतर तरीके से कार्य को सफल बनाते हैं। जनजागरूकता कार्यक्रम के तहत लोगों को इस अभियान के बारे में विस्तारपूर्वक बताएं, उन्हें स्वच्छता को लेकर जागरूक एवं प्रेरित करें।


उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वच्छता कर्मी, पर्यवेक्षक, समन्वयक, वार्ड पार्षद, मुखियागण को जिलास्तर पर प्रशस्ति पत्र आदि देकर सम्मानित भी किया जायेगा। उन्होंने निर्देश दिया कि जिलास्तर एवं प्रखंडस्तर की टीम प्रतिदिन गांवों का विजिट करेगी और कराये जा रहे कार्यों का अनुश्रवण करेगी। इसके साथ ही यूजर चार्जेज कलेक्शन पर भी फोकस करना जरूरी है ताकि गांवों में सुचारू कचरा कलेक्शन आदि का कार्य अच्छे तरीके से हो सके। अपर समाहर्ता, राजीव कुमार सिंह ने कहा कि गांवों को स्वच्छ, साफ-सुथरा करने का कार्यक्रम काफी दिनों से चल रहा है। एक अभियान के रूप में 15 सितंबर से 02 अक्टूबर तक इस कार्यक्रम को चलाया जा रहा हैं। इसके सफल क्रियान्वयन में स्वच्छा कर्मियों, पर्यवेक्षकों एवं समन्वयकों की अहम भूमिका है। जिलास्तर से लेकर प्रखंडस्तर तक के सभी अधिकारी एवं कर्मी अच्छे से कार्य करें और जिले की रैंकिंग को बेहतर बनाएं। इस अवसर पर जिला आपूर्ति पदाधिकारी, श्री कुमार रविन्द्र, प्रभारी पदाधिकारी, जिला सामान्य शाखा, श्री विपिन कुमार यादव, जिला पंचायत राज पदाधिकारी, श्री मनीष कुमार, निदेशक, डीआरडीए, श्री सुजीत कुमार बरनवाल, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी, श्री अनंत कुमार, वरीय उप समाहर्ता, डॉ0 राजकुमार सिन्हा सहित जिला जल एवं स्वच्छता समिति के अधिकारी, समन्वयक, स्वच्छताकर्मी आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here