पूर्व प्राचार्य हुए श्रेष्ठ रुद्राभिषेक में सम्मिलित।

0
488

तुलसी के विशेष महत्वों की दी जानकारी।

बगहा/मधुबनी। मधुबनी प्रखण्ड क्षेत्र के राजकीयकृत हरदेव प्रसाद इंटरमीडिएट कॉलेज मधुबनी के पूर्व प्राचार्य पंडित भरत उपाध्याय ने अपने निजी आवास पर श्रेष्ठ रुद्राभिषेक में शामिल हुए।इस दौरान उन्होंने तुलसी के महत्व के सम्बंध में जानकारी देते हुए बताया कि पूजा पाठ में तुलसी का विशेष महत्व माना गया है,तुलसी केवल पौधा मात्र नही है वह जीवन का एक अंग है।उन्होंने कहा कि धर्मशास्त्रों में भी तुलसी के बारे में बखूबी जानकारी दी गई है।तुलसी के पौधे को माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है।वही सनातन धर्म में तुलसी के पौधे से कई आध्यात्मिक बातें भी जुड़ी हुई है,शास्त्रीय मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु को तुसली अत्यधिक प्रिय है तुलसी के पत्तों के बिना भगवान विष्णु की पूजा अधूरी मानी जाती है,क्योंकि भगवान विष्णु का प्रसाद बिना तुलसी दल के पूर्ण नहीं होता है।उन्होंने बताया कि तुलसी की रोजाना पूजा करना और पौधे में जल अर्पित करना हमारी प्राचीन परंपरा है।मान्यता है कि जिस घर में प्रतिदिन तुलसी की पूजा होती है वहां सुख-समृद्धि, सौभाग्य बना रहता है।

तुलसी का पौधा हमेशा घर के आंगन में लगाना चाहिए,जबकि आज के दौर में जगह के अभाव होने के कारण तुलसी का पौधा बालकनी में भी लगाया जा सकता है।प्राचार्य ने कहा कि रोज सुबह स्वच्छ होकर तुलसी के पौधे में जल दें तथा उसकी परिक्रमा करें,साथ ही सांय काल में तुलसी के पौधे के नीचे घी का दीपक जलाएं काफी शुभ होता है।भगवान गणेश, मां दुर्गा और भगवान शिव को तुलसी न चढ़ाएं,आप कभी भी तुलसी का पौधा लगा सकते हैं लेकिन कार्तिक माह में तुलसी लगाना सबसे उत्तम होता है।वही इस अवसर पर आचार्य हरेंद्र उपाध्याय ने कहा कि तुलसी की पत्तियां तोड़ने से पहले उसे प्रणाम करना चाहिए तथा महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते इस मंत्र का उच्चारण करना चाहिए।उन्होंने बताया कि रविवार, चंद्रग्रहण और एकादशी के दिन तुलसी नहीं तोड़ना चाहिए “तुलसी वृक्ष ना जानिये,गाय ना जानिये ढोर।। गुरू मनुज ना जानिये ये तीनों नन्दकिशोर।। अर्थात- तुलसी को कभी पेड़ ना समझें गाय को पशु समझने की गलती ना करें और गुरू को कोई साधारण मनुष्य समझने की भूल ना करें,क्योंकि ये तीनों ही साक्षात भगवान रूप में हैं।वही अभिषेक पूजन में संजय मिश्र, देवेंद्र उपाध्याय, सोनू तिवारी, आकाश, गोपाल ,अंजनी ,शालिनी पूजा,लक्ष्मी ,विमला देवी तथा नंदनी समेत परिवार के सभी लोग शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here