खरीफ महाभियान से किसानों को करें लाभान्वित, किसानों को विभिन्न योजनाओं की दें विस्तृत जानकारी: जिलाधिकारी।

0
440

बेतिया। खरीफ महाभियान 2023 अंतर्गत जिलास्तरीय खरीफ कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम का सफल आयोजन आज स्थानीय डीआरसीसी के सभागार में सम्पन्न हुआ। जिलाधिकारी, श्री दिनेश कुमार राय द्वारा कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ दीप प्रज्जवित कर किया गया। इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार, सहायक समाहर्ता, सुश्री शिवाक्षी दीक्षित, संयुक्त निदेशक, शस्य कृषि विभाग, पटना, श्री संतोष कुमार उत्तम, जिला कृषि पदाधिकारी, श्री प्रवीण कुमार राय, जिला मत्स्य पदाधिकारी, श्री गणेश राम, महाप्रबंधक, जिला उद्योग केन्द्र, श्री अनिल कुमार, सहायक निदेशक, उद्यान, श्री विवेक भारती, अन्य संबंधित अधिकारी सहित किसान सलाहकार, कृषि समन्वयक, तकनीकी सहायक तथा कृषकगण उपस्थित रहे। जिलास्तरीय खरीफ कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि खरीफ महाभियान के तहत किसानों को जागरूक एवं प्रेरित करने के उदेश्य से 24 मई को राज्यस्तर पर जागरूकता रथ को जिले में रवाना किया गया था। आज इस कर्मशाला तथा प्रशिक्षण कार्यक्रम से सभी अधिकारी एवं कृषकगण लाभ उठायें। उन्होंने कहा कि खरीफ महाभियान अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा प्रगतिशील किसानों सहित अन्य किसानों को लाभान्वित किया जाना है। खरीफ महाभियान के तहत कृषि विभाग सहित अन्य विभागों द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं से जिले के सभी किसानों को अवगत करायें तथा पात्र किसानों को लाभान्वित करें। परंपरागत कृषि के अलावे आधुनिक पद्धति को अपनाते हुए कृषि क्षेत्र में जिले को अग्रणी बनाएं। जिलाधिकारी ने कहा कि कर्मशाला का उदेश्य किसानों को जागरूक करना है। कृषि सहित सम्बद्ध विभागों का यह दायित्व है कि अभियान को सफल बनाने हेतु तत्परतापूर्वक कार्य करें। किसानों की उम्मीदों पर खरा उतरना है। उन्होंने कहा कि सिर्फ सैद्धांतिक नहीं बल्कि व्यवहारिक रूप से इसका अनुपालन सुनिश्चित किया जाय। इस महाभियान को धरातल पर उतारने हेतु सभी सम्बद्ध अधिकारी अपने-अपने दायित्वों का निवर्हन बखूबी करें। उन्होंने कहा कि सहयोग एवं समन्वय के साथ किसानों की उपज को बढ़ाने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग से जुड़े हुए तंत्र अच्छे तरीके से अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों का निवर्हन करें। जिनका परफोरमेन्स अच्छा रहेगा उनको सम्मानित किया जायेगा। खराब परफोरमेन्स वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई भी की जायेगी। सभी तंत्र पारदर्शी तरीके से पात्र किसानों को लाभान्वित करें। उन्होंने कहा कि जिलास्तरीय टीम जिले के विभिन्न प्रखंडों में भ्रमण करेगी और कृषि क्षेत्र में किये जा रहे विभिन्न कार्यों की समीक्षा करेगी। जिलाधिकारी ने स्पष्ट रूप से कहा कि कृषि विभाग किसानों के हित के लिए कार्य करें, किसानों की कठिनाईयों को दूर करें। उन्होंने कहा कि किसानों के कल्याण एवं उत्थान के लिए जिला प्रशासन सदैव तत्पर है। किसानों के समक्ष आने वाली समस्याओं का नियमानुकूल समाधान कराया जायेगा। किसानों को विभिन्न लाभकारी योजनाओं से लाभान्वित किया जा रहा है। किसान सरकारी योजनाओं का लाभ लेते हुए नई टेक्नोलॉजी को अपनाते हुए कृषि एलायड क्षेत्र में पश्चिम चम्पारण जिला को अग्रणी बनाने में सहयोग करें। इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार ने कहा कि पश्चिम चम्पारण कृषि प्रधान जिला है। अधिकारी कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ कृषकों को दें ताकि वे अपना उत्पादन बढ़ा सकें। उन्होंने कहा कि कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतायी जा रही बातों को क्षेत्र में जाकर किसानों को दें। प्रयास यह करें कि जिले में खरीफ की पैदावार बढ़ सके। उप विकास आयुक्त द्वारा पैडी प्रोडक्शन (श्रीविधि), स्वॉयल हेल्थ कार्ड, बेहतर क्वालिटी का बीज वितरण, इंटीग्रेटेड कृषि फॉर्मिंग, फुड प्रोसेसिंग, आधुनिक तकनीक का प्रयोग कर कम लागत में ज्यादा पैदावार करने आदि के बारे में विस्तारपूर्वक बताया गया। साथ ही प्रखंड कृषि पदाधिकारी, किसान सलाहकार, कृषि समन्वयक आदि को उक्त के बारे में कृषकों को जानकारी देने तथा उन्हें लाभान्वित करने की बात कही गयी। कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम को सहायक समाहर्ता, सुश्री शिवाक्षी दीक्षित, संयुक्त निदेशक, शस्य कृषि विभाग, पटना, श्री संतोष कुमार उत्तम आदि अधिकारियों द्वारा संबोधित किया गया तथा विभिन्न प्रकार की जानकारी प्रदान की गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा खरीफ महाभियान अंतर्गत प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। यह प्रचार रथ जिले के विभिन्न हाट-बाजारों, गांवों में जाकर ऑडियो एवं वीडियो के माध्यम से कृषकों को आत्मा योजना, कौशल विकास, मिट्टी जांच, जैविक कोरिडोर योजना, सूक्ष्म सिंचाई (सामूहिक नलकूप योजना), उद्यान, जलवायु अनुकूल कृषि कार्यक्रम, भूमि संरक्षण, फसल प्रत्यक्षण, कृषि यांत्रीकरण (फसल अवशेष प्रबंधन) सहित किसानों के लिए लाभकारी अन्य योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here