गृह प्रवेश के दौरान पूर्व प्राचार्य के नेतृत्व में दर्जनों विद्वानों को किया गया सम्मानित।

0
528

बगहा। गंडक पार मधुबनी प्रखंड के राजकीयकृत हरदेव प्रसाद इंटरमीडिएट कॉलेज मधुबनी के वरिष्ठ शिक्षक आचार्य नीरज कुमार त्रिपाठी शांडिल्य ने नूतन गृह प्रवेश के अवसर पर पूर्व प्राचार्य पंडित भरत उपाध्याय के नेतृत्व में दर्जनों प्रतिष्ठित विद्वानों को अंग वस्त्र और धार्मिक पुस्तक प्रदान कर सम्मानित किया। सर्वप्रथम पूर्व प्राचार्य संस्कृत विद्यालय मधुबनी पंडित रमाशंकर त्रिपाठी द्वारा पंडित भरत उपाध्याय गुरु जी को अंग वस्त्र और माला पहनाकर वेद मंत्रों के साथ सम्मानित किया गया। तत्पश्चात उपस्थित सभी मूर्धन्य विद्वानों को श्रद्धा पूर्वक सम्मानित किया गया।बता दें कि समाज में विद्वानों की प्रतिष्ठा पुनर्स्थापन प्रयास के लिए सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर अपने संबोधन में पूर्व प्राचार्य ने कहा कि एक विद्वान ही उसकी गरिमा की गहराइयों को परखते हुए उसे सम्मानित कर सकता है, ऐसे आयोजनों से विद्वानों की समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेती है। वास्तव में विद्वान ही विद्वानों को सम्मानित कर अपने को गौरवान्वित महसूस करते हैं। बीच में चंपारण की धरती पर विद्वानों का अभाव सा दिख रहा था, किंतु आज यहां की धरती विद्वता के लिए प्रभावशाली मानी जा रही है। यह सभी विद्वान उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, गोवा, मध्य प्रदेश आदि स्थानों पर अपनी विद्वता का लोहा मनवा चुके हैं। उन्होंने आगे कहा कि ज्ञान के दृष्टिकोण से गुरु, शिष्य और परमात्मा में सिर्फ ज्ञान का ही फर्क है। जिसे जानना है वह परमात्मा है, जिसने जान लिया है वह गुरु है, और जिसे जानना है वह शिष्य है जीवन तो हर कोई जी लेता है सफलता भी पा लेता है परंतु वास्तविक जीवन उसी का होता है जो अपने सकारात्मक सोच से समाज और देश का भला करता है अपनी सुचिता, सत्यता, सौम्यता, सद्भाव, सरलता, सुदृढ़ भाषा सटीक और समूह शैली से पूरे समाज को एक नई ऊर्जा का संचार करने वाले लोग ही वास्तव में विद्वान हैं समारोह की सफलता के लिए आचार्य नीरज कुमार त्रिपाठी शांडिल्य को साधुवाद देते हुए गुरुजी ने कहा कि आपसे विद्वत समाज को प्रेरणा मिलेगी। सम्मानित विद्वानों में सर्वश्री विकास उपाध्याय (वाराणसी) ऋषिकेश तिवारी, आशीष त्रिपाठी, पंडित अमरेंद्र पांडे, पंडितशैलेंद्र मोहन पांडे, पं०शिव सागर पाठक, पं० राम सागर पाठक, पं०राम नारायण ओझा, पं० विजय चतुर्वेदी, प्रदुम चतुर्वेदी, बिपिन बिहारी तिवारी, पं० उपेंद्र पांडे, सुबोध मणि त्रिपाठी, सोनू कुमार त्रिपाठी (गोपालगंज) डा० विभा करमणि, ज्ञान प्रकाश चतुर्वेदी, दिनेश त्रिपाठी ज्योतिषाचार्य, अरुण द्विवेदी, अभिमन्यु द्विवेदी, डॉ दुर्गेश मिश्रा, अजय चौबे, आशुतोष द्विवेदी, मृत्युंजय मिश्रा, अंजनी कुमार मिश्रा, आदित्य कुमार मिश्रा, अनूप तिवारी, वीरेंद्र मिश्रा, आंचल मिश्रा, मुकेश त्रिपाठी, सुमंत कुमार पांडे को अंग वस्त्र एवं धार्मिक पुस्तक देकर सम्मानित किया गया। पूर्व प्रमुख ठाकुरउदय प्रताप सिंह, आकाश सिंह, प्रमुख प्रतिनिधि ठाकुर विजय सिंह ,ठाकुर रामाधार सिंह ,ठाकुर विपिन सिंह, दिनेश राय, सुजीत राय ,डॉ अभिषेक राय ,डॉ दुर्गेश, सतीश जी ,राजेश रमण कुमार सिंह, मनोज राम ,श्रीमती संगीता मिश्रा, आकांक्षा सिंह, बिंदेश्वर त्रिपाठी, रूपेश कुमार त्रिपाठी सहित सैकड़ों गणमान्य लोगों ने असाधारण सम्मान समारोह की भूरी भूरी प्रशंसा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here