लगातार रिव्यू के बावजूद केवाईपी में प्रगति नहीं होने के कारण सहायक प्रबंधक, केवाईपी के मानदेय में 15% कटौती कर भुगतान करने का निर्देश।

0
493

बेतिया। जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार ने कहा कि केवाईपी, बीएससीसी एवं एसएचए छात्र-छात्राओं के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण योजनाएं हैं। जिले को प्राप्त लक्ष्य के अनुरूप छात्र-छात्राओं को लाभान्वित किया जाय। जिलाधिकारी कार्यालय प्रकोष्ठ में केवाईपी (कुशल युवा कार्यक्रम), बीएससीसी (बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना) एवं एसएचए (मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना) के कार्य प्रगति की विस्तृत समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे।समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि बीएससीसी (बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड) एवं एसएचए (मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना) की कार्य प्रगति ठीक है। इसमें क्रमशः 14 एवं 12 रैकिंग है, जिसमें पूर्व से सुधार हुआ है। उन्होंने कहा कि इसे और बेहतर करें और स्पीडअप करते हुए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करें। परफोरमेन्स बेस्ड वर्क करते हुए जिले की रैंकिंग में सुधार करें तथा छात्र-छात्राओ को लाभान्वित करें। केवाईपी (कुशल युवा कार्यक्रम) की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि लगातार रिव्यू के बावजूद केवाईपी में जिले की रैंकिंग में किसी प्रकार की प्रगति नहीं हुयी है, जो अत्यंत ही खेदजनक है। सहायक प्रबंधक द्वारा सफल प्रयास नहीं किया जा रहा है। उन्होंने निर्देश दिया कि सहायक प्रबंधक, केवाईपी के मानदेय में 15 कटौती कर भुगतान करना सुनिश्चित किया जाय। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि केवाईपी (कुशल युवा कार्यक्रम), बीएससीसी (बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना) एवं एसएचए (मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना) से संबंधित लंबित मामलों का निष्पादन अविलंब कराना सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने निर्देश दिया कि केवाईपी, बीएससीसी एवं एसएचए का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें ताकि अधिक से अधिक छात्रों को लाभान्वित किया जा सके। इसके लिए विशेष शिविर का आयोजन भी किया जाय तथा छात्रों को लाभान्वित किया जाय। इस अवसर पर अपर समाहर्ता, श्री राजीव कुमार सिंह, वरीय उप समाहर्ता, श्री रवि प्रकाश सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here